अंबाला जिले का परिचय (मिक्सी सिटी) – Ambala district

Ambala District of Haryana

अंबालाइस नगर की स्थापना चौदहवीं शताब्दी में अंबा राजपूत द्वारा की गई थी; जिससे इसका नाम अंबाला पड़ा। एक अन्य धारणा यह है कि इस नगर का नाम अंबाला (भवानी देवी) के नाम पर पड़ा। जिसका मंदिर नगर में अभी भी स्थित है। एक अन्य धारणा यह भी है कि यहां आम की पैदावार अधिक होती थी इसीलिए इसे अंबावाला कहा जाता था जो बाद में बिगड़ कर अंबाला बन गया है।
 
अंबाला को आर्यों ने अपना स्थाई निवास बनाया था। सन 1842 में अंबाला को शिमला के अधीन किया गया था। सन 1843 मैं करनाल से यहां छावनी लाई गई। वॉइसराय लॉर्ड कैनिंग ने जनवरी 1860 में यहां दरबार लगाया तब डाक की सुविधा  शुरू हुई थी। दिल्ली और ग्रीष्मकालीन राजधानी शिमला के सस्ते होने के कारण सन 1880 में अंबाला को रेलवे लाइन से जोड़ा गया था।
 

स्थिति : हरियाणा के उत्तर में स्थित है। इसके उत्तर में पंचकूला, पूर्व में यमुनानगर, पश्चिम में पटियाला (पंजाब) तथा दक्षिण में कुरुक्षेत्र जिला स्थित है।

मुख्यालय : अंबाला
उदभव : 14वीं शताब्दी मैं अंबा राजपूत द्वारा स्थापित
क्षेत्रफल : 1574 वर्ग किलोमीटर
स्थापना : 1 नवंबर 1966
उपमंडल : अंबाला, नारायणगढ़, अंबाला छावनी व बराडा
तहसीलें : अंबाला, अंबाला छावनी, नारायणगढ़ व बराडा
उप तहसीलें : अंबाला छावनी, साहा, मुलाना, शहजादपुर
खंड : अंबाला, अंबाला-II, बराड़ा, नारायणगढ़, साहा, शहजादपुर
प्रमुख उद्योग : सीमेंट, चीनी, सिलाई मशीन, कृषि यंत्र, वैज्ञानिक उपकरण, इलेक्ट्रॉनिक एवं विद्युत उपकरण, ग्राइंडर मिक्सर, हैंडलूम
नदियां : टांगरी, मारकंडा, घग्घर
पर्वत श्रृंखला : उत्तर उत्तर पूर्व में शिवालिक की पहाड़ियां
रेलवे स्टेशन : अंबाला कैंट जंक्शन
पर्यटक स्थल : किंगफिशर (यह ब्रिटिश राज्य की घुडसाला एवं कैंट एरिया हुआ करता था)
प्रमुख नगर : अंबाला, अंबाला कैंट, नारायणगढ़, महेश नगर।
प्रमुख फसलें : गेहूं, चावल, गन्ना, तिलहन, आलू।
जनसंख्या : 1128350 (जनगणना 2011 के अनुसार)
जनसंख्या घनत्व : 722 व्यक्ति/वर्ग किलोमीटर
लिंगानुपात : 885 महिलाएं/प्रति हजार पुरुष
साक्षरता दर : 82.9%
प्राचीन नाम : अंबालिका
महत्वपूर्ण संस्थान : महर्षि मार्कंडेश्वर विश्वविद्यालय (मुलाना), फूड पार्क (साहा), श्री दीवान कृष्ण किशोर सनातन धर्म आदर्श संस्कृत महाविद्यालय।
उपनाम : साइंटिफिक सिटी, मिकसी सिटी, वैज्ञानिक उपकरणों की नगरी।
प्रमुख व्यक्ति : परिणीति चोपड़ा (अभिनेत्री), जूही चावला (अभिनेत्री), प्रियंका चोपड़ा (अभिनेत्री), ओम पुरी (अभिनेता), जोहरा बाई (गायन)।

महत्वपूर्ण स्थल:-

अंबाला शहर :-

प्रसिद्ध गायिका जोहरा बाई का संबंध अंबाला शहर से है। अंबाला छावनी : अंबाला छावनी की स्थापना 1843 ईस्वी में हुई थी। सन 1857 में इस छावनी में तैनात हिंदुस्तानी सैनिकों ने 10 मई को ही मेरठ में बगावत की थी।

महर्षि मार्कंडेश्वर विश्वविद्यालय (मुलाना) :-

महर्षि मार्कंडेश्वर विश्वविद्यालय की स्थापना तरसेम कुमाार गर्ग के प्रयासों से सन 1993 मैं हुई। सन 1995 में एम एम इंजीनियरिंग कॉलेज प्रारंभ किया गया। वर्ष 2007 में इस संस्थान ने महर्षि मार्कंडेश्वर विश्वविद्यालय का दर्जा प्राप्त किया।

गुरुद्वारा मंजी साहिब :-

यह गुरुद्वारा अंबाला जिले मैं शेरशाह सूरी मार्ग पर स्थित है। यह सिखों के 8 वे गुरु हरगोविंद व 10वें गुरु गोविंद सिंह के लिए प्रसिद्ध है। छठवें गुरु के लिए यहां पर बावड़ी बनी हुई है। जहांगीर से मिलने जाते समय वे यहां पर रुके थे।

अंबिका देवी मंदिर :-

अंबाला शहर के मंदिरों में अंबिका देवी मंदिर का इतिहास महत्वपूर्ण है। मान्यता यह है कि द्वापर में कौरवों और पांडवों के समय अंबा, अंबालिका और अंबिका की याद में मां भवानी का यह मंदिर बनवाया गया था।
किंगफिशर :- शेरशाह सूरी मार्ग पर स्थित यह आकर्षण और सुंदर पर्यटक स्थल है।

गुरुद्वारा लखनौर साहिब :-

अंबाला सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह जी की माता का जन्म स्थान होने के कारण इस गांव को गुरु गोविंद सिंह जी का ननिहाल होने का गौरव भी प्राप्त है। लखनौर साहिब का प्राचीन नाम लखनावती, लखनपुर और लखनौती इत्यादि के रूप में दर्ज है।

सेंट पॉल चर्च :-

इस चर्च का निर्माण 1857 में हुआ था जो भारत पाकिस्तान युद्ध के दौरान 1965 मैं नष्ट हो गई थी। यह अर्थो गोथिक ब्रिटिश शैली का प्रतीक थी।

Note : –

सर्वप्रथम दयानंद सरस्वती हरियाणा में अंबाला में आए थे।

वर्ष 1919 में सर्वप्रथम रोल एक्ट का विरोध अंबाला में हुआ था।

1843 ई में यहां अंबाला छावनी की स्थापना हुई थी।

नाथूराम गोडसे को फांसी अंबाला की जेल में दी गई थी।

1 thought on “अंबाला जिले का परिचय (मिक्सी सिटी) – Ambala district”

Leave a comment