पलवल जिले का परिचय (city of cotton) – Palwal District

Introduction to Palwal District

यह जिला दिल्ली से 60 किलोमीटर दूर मथुरा हाईवे पर स्थित है। हरियाणा के इस जिले का नाम पलवल पलंबासुर राक्षस की राजधानी होने के कारण पड़ा। इस जिला को साइकिल उद्योग एवं शक्कर उद्योग के लिए प्रसिद्ध है। जब महात्मा गांधी रोलट एक्ट का विरोध होने वाले सम्मेलन में भाग लेने के लिए जलियावालाबाग जा रहे थे। तो अंग्रेज सरकार द्वारा 10 अप्रैल 1919 को पलवल में स्थित रेलवे स्टेशन पर उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया था। 

नेताजी सुभाष चंद्र बोस के द्वारा सन 1938 में महात्मा गांधी आश्रम की नींव रखी गई थी। आईना-ए-अकबरी के अनुसार प्रारंभिक आर्य परंपराओं के वर्णन में पलवल का नाम अपलव पाया गया है। एक जन श्रुति के अनुसार पांडव अज्ञाातवास के दौरान पलवल में रहेे थे। इस क्षेत्र के गांव आहार वन का वर्णन भगवत गीता की कथाओं में भी मिलता है।
 

स्थिति : यह  जिला हरियाणा के दक्षिण पूर्व में स्थित है। (जो कि फरीदाबाद से अलग होकर बना है)।

स्थापना : 15 अगस्त 2008
मुख्यालय : पलवल
क्षेत्रफल : 1359 वर्ग किलोमीटर
जनसंख्या : 1040493
जनसंख्या घनत्व : 767 व्यक्ति प्रति वर्ग किलोमीटर
उपमंडल : हथीन, होडल
तहसीलें : होडल, हथीन
उप तहसीलें : हसनपुर, बहिन
खंड :  होडल, हसनपुर, हथीन, पृथला
लिंगानुपात : 880 महिलाएं/प्रति हजार पुरुष
साक्षरता दर : 69.32%

महत्वपूर्ण स्थल :-

पंचवटी मंदिर :-

यहाँ पर पंचवटी के नाम से एक प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर पांडवों के समय का माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि अज्ञातवास के समय पांडवों ने इस स्थान पर विश्राम किया था।

पांडव वन :-

इस  जिले के होटल नामक कस्बे में पांडव वन तथा मंदिर व गुफा स्थित हैं। महाभारत काल के बाद यहां ओड जाति आकर बस गई थी। ऐसी मान्यता है कि पांडवों ने अज्ञातवास का कुछ समय इस स्थान पर बिताया था।

दाऊजी का मंदिर :-

यहाँ  से लगभग 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित बंचारी गांव में दाऊजी का प्रसिद्ध मंदिर है। यह मंदिर श्री कृष्ण के भाई बलराम की स्मृति में बनाया गया है।

होडल की सराय :-

इसका निर्माण भरतपुर के जाट राजा सूरजमल ने करवाया था।

महल एवं बाराखंबा छतरी (होडल) :-

होटल में स्थित महलनुमा हवेली का निर्माण सन 1754 से 1764 ईस्वी के बीच में भरतपुर के राजा सूरजमल केशव सुर चौधरी काशीराम सोरोत ने करवाया था। महारानी किशोरी राजा सूरजमल की धर्मपत्नी और चौधरी कांशीराम की पुत्री थी।

मटिया महल : मटिया महल का निर्माण मुगलों के द्वारा करवाया गया था इसे मीनार किला भी कहा जाता है।

सती का तालाब :-

होडल क्षेत्र में सतीश के नाम से एक भव्य मंदिर तथा एक तलाब बना हुआ है। जहां जनवरी के महीने में मेला लगता है। भरतपुर के राजा सूरजमल ने एक सराय, तलाब तथा बावड़ी का निर्माण करवाया था। होडल के किशोरी बाई तलाब को ही सती के तलाब के नाम से भी जाना जाता है।

डबचिक :-

पल-पल के होडल शहर में दिल्ली आगरा मार्ग पर स्थित डब चिक नामक पर्यटक कॉन्प्लेक्स स्थित है।

किशोरी महल : किशोरी महल का निर्माण सन 1774 में भरतपुर के राजा सूरजमल ने करवाया था।

Note :-

  1. यह जिला कपास के व्यापार के लिए प्रसिद्ध है।
  2. इसे कॉटन सिटी के नाम से भी जाना जाता है।
  3. पलवल को मोतियों का किला भी कहा जाता है।
  4. 10 अप्रैल 1919 को पलवल के रेलवे स्टेशन से महात्मा गांधी को गिरफ्तार किया गया था।

Leave a comment